गर्भावस्था में कैसे रखे अपना ख्याल प्रेगनेंसी केयर इन हिंदी

 Pregnancy Care in Hindi माँ बनने हर महिला का सपना होता है। छोटे बच्चे के आने का इन्तजार ना केवल माँ ही नहीं बल्कि पूरा परिवार करता है। छोटे बच्चे होते ही इतने प्यारे है की उनकी क्यूट सी स्माइल आपको खुशी से भर देती है। यदि कोई भी महिला हेल्थी बच्चे की माँ बनना चाहती है तो, गर्भधारण करने के पहले और Pregnancy के दौरान उसे अपनी केयर सामान्य दिनों से बहुत अधिक करनी पड़ेगी। तभी वो एक स्वस्थ्य बच्चे को जन्म दे पायेगी। आजकल कई महिलाएं घर सँभालने के साथ साथ बहार जॉब भी करती है।
ऐसे मैं उनके खाने पिने की दिनचर्या एक सामान नहीं रहती है। और उनकी जिंदगी तनाव ग्रस्त हो जाती है।
ऐसी स्तिथि मैं उन्हें गर्भधारण करने मे बहुत मुश्किल आती है। या अगर गर्भधारण कर भी ले तब भी गर्भपात जैसी समस्या होने का खतरा बना रहता है। यदि आप जल्द ही माँ बनने वाली है तो खुद के लिए और अपने होने वाले बच्चे के लिए खुद का ख्याल रखे।  दरहसल 90 प्रतिशत गर्भधारण अनियोजित होते है। जिससे आगे जाकर कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसलिए बेहतर होगा कि माँ बनने की प्लानिंग से पहले आप स्त्री विशेषज्ञ से मिले. वो ही आपको बता सकती हे की आपका शरीर इस समय गर्भधारण करने के लिए तैयार है या नहीं।
इसके अतिरिक्त गर्भधारण करने से पहले और उसके बाद बहुत जरुरी ही की महिलाएं संतुलित आहार ले। आपके शरीर का स्वस्थ रहना जरूरी है। 9 महीने एक बच्चे को अपने खोख में पलना कोई खेल नहीं है। इस बारे मे और विस्तार से जानने के लिए पढ़े Pregnancy Care in Hindi.

Pregnancy Care in Hindi: गर्भावस्था में रखे अपना ख्याल

गर्भधारण के पहले डॉक्टर का परामर्श ले.

  • यह बहुत जरुरी है की जब भी आप माँ बनने की प्लानिंग कर रही हो तो सबसे पहले डॉक्टर की सलाह ले। और बेहतर होगा यदि आप अपने पति को भी अपने साथ ले जाये।
  • डॉक्टर आपके कुछ टेस्ट लेंगे। उस टेस्ट के द्वारा यह पता चल पाएगा कि आपका शरीर गर्भधारण करने के पूरी तरह से तयार है या नहीं।
  • आपकी स्थति के अनुसार डॉक्टर आपको कुछ Medicine देंगे जो आपके शरीर और गर्भधारण करते समय आपके लिए फायदेमंद हो। Pregnancy Care

धूम्रपान का सेवन न करे

  • यदि आपको सिगरेट आदि का सेवन करते हो तो उसे तुरंत छोड़ दे। क्योंकि धूम्रपान करते समय जो धुआं निकलता है वो बहुत हानिकर होता है।
  • इसको करने से गर्भधारण करने मे आपको कई मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। यदि गर्भधारण करने से पहले आपने धूम्रपान करना नहीं छोड़ा तो, आपके बच्चे के ऊपर बहुत बुरा असर पड़ेगा। कई बार बच्चे शारीरिक और मानसिक रूप से विकलांग भी पैदा होते है।
  • धूम्रपान करने से आपको गरभपात Pre-term delivery जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसके अतिरिक्त आपका बच्चा मोटापे का शिकार भी हो सकता है। Pregnancy Care

दूध(मिल्क) का नियमित सेवन करे

  • दूध पीना शरीर के लिए बहुत अच्छा होता है। इसको पिने से आपको कैल्शियम प्रोटीन मिलता है। जो आपके और आपके होने वाले बच्चों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। लेकिन ध्यान रखें कि जब आप गर्भवती हो तो गरम दूध का सेवन न करे।
  • हल्के गुनगुने दूध का सेवन करे। और पर्सनल केयर के लिए आप ठन्डे दूध को चेहरे पर भी लगा सकती है।

आयोडीन युक्त आहार

गर्भवती महिलाओं के शरीर के लिए आयोडीन बहुत जरुरी है। बच्चे के मानसिक विकास मे सहायक होता है। साथ ही आयोडीन तंत्रिका तंत्र के विकास में भी मदद करता है। आयोडीन की कमी से बच्चे को घेंघा रोग हो जाता है। इसलिए जरुरी है की गर्भवती महिला आयोडीन को आपने आहार में शामिल करे। Pregnancy Care

शराब का सेवन छोड़ दे

शराब का सेवन तो सभी के शरीर पर बुरा प्रभाव डालता है। तो फिर सोच लीजिये की गर्भवती महिला के ऊपर इसका प्रभाव कितना गहरा होगा। इसलिए गर्भधारण करने के 6 महीने पहले ही शराब का सेवन करना छोड़ दे क्योंकि इससे बच्चे को कई बीमारियां हो जाती है। बच्चे के दिल फेफड़े और दिमाग पर भी बुरा पराभव पड़ता है।

भरपूर नींद ले

  • प्रेग्नेंट लेडी केयर की बात करे तो यदि आप गर्भवती महिला है तो आपको कम से कम 8 घंटे की नींद लेना चाहिए। अगर आप दिन मै भी 1 घंटा आराम करेगी तो ये आप और आपके बच्चे के लिए बहुत अच्छा है। नींद पूरी होने पर आप स्वस्थ और रिफ्रेश महसूस करेंगे।
  • कैफीन का सेवन कम करे माँ बनने के लिए अगर आप तैयारी कर रही है तो कॉफ़ी पीना बंद कर दे।
  • कैफीन आपके गर्भवती होने की संभावनाओं को कम कर देता है। या फिर गर्भपात होने की सम्भावना बढ़ा देता है।

तनाव लेने से बचें

जिंदगी मे हर किसी को किसी न किसी वजह से तनाव जरूर होता है। परन्तु यह तनाव आपके लिए सही नहीं होता है। अगर आप गर्भवती महिला है तो आप कोशिश करे की ज्यादा से ज्यादा खुश रहे। तनाव लेना आपके शरीर और बच्चे के लिए बिलकुल भी अच्छा नहीं है।
आप चाहे तो मैडिटेशन का सहारा भी ले सकती है। इससे आप तनाव को तो काम करेगी ही साथ में सकारात्मक ऊर्जा अपने अंदर महसूस करेंगी।
गर्भवती महिला का स्वस्थ रहना बहुत जरुरी है। यह इसलिए जरूरी है ताकि आप दिमागी और शारीरिक दोनों तरह से स्वस्थ रहे। तनाव को अपने आप से दूर रखने के साथ साथ अपने वजन पर भी ध्यान दे। गर्भधारण करने के बाद वजन और शरीर बहुत बढ़ता है।
यदि आप इसके पहले से ही मोटी होंगी तो आपको बहुत प्रोब्लेम्स होगी। Pregnancy Care

फायदेमंद है केसर

आपने अक्सर सुना होगा की गर्भवती माँ को अगर केसर खिलाया जाये तो बच्चा गोरा पैदा होता है। परन्तु डॉक्टर की मानी जाये तो यह सच नहीं है। केसर आपके लिए किस तरह फएमंद है निचे दिया गया है।
गर्भवती महिला को आँखों मे तनाव महसूस होता है। केसर का सेवन करने से इस समस्या से बचा जा सकता है।
गर्भवती महिला को पाचन संबंधी कई समस्या होती है। क्युकी शारीर में रक्त का संचार सामान्य अवश्था में नहीं हो पाता। अगर आप केसर का सेवन करेंगे तो पेट अच्छा रहेगा।
5 महीने बाद माँ को बच्चे के घूमने का एहसास होने लगता है। केसर का सेवन करने से बच्चे के घूमने का एहसास और भी अच्छे से होता है।
गर्भवती महिला को दिन में केसर के 4 रेशे दूध मई मिलकर पीना चाहिए। इससे ब्लड प्रेशर संतुलित रहता है।

हरी भरी सब्जियों का सेवन

  • गर्भवती महिला को ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए।
  • क्युकी हरी सब्जियों में फोलिक एसिड होता है। गर्भावस्था में फोलेट बहुत जरुरी तत्त्व है जो हरी सब्जियों के द्वारा शारीर में पहुँचता है।

मन से कोई दवाई न ले Do not take any medications

रोजमर्रा की जिंदगी मे हम कई बार सर दर्द या बदन दर्द होने पर कुछ दवाइया लेते है। कई दवाइयां ऐसी भी होती है जो आपके गरभ पर सीधा असर करती है। यहाँ तक इससे आपका गर्भपात भी हो सकता है। या फिर दोबारा गर्भधारण करने मे मुश्किल भी आ सकती है। इसलिए कभी भी बिना डॉक्टर के परामर्श के दवाई न ले। और इसके अतिरिक्त आप किसी भी तरह की दवाई का सेवन कर रहे हे तो उसके बारे मै चिकित्सक से परामर्श कर ले। Pregnancy Care

प्रेग्नेंट स्त्री के लिए अचूक नुस्खे Surefire tips for pregnant women

  1. गर्भपात में जिन स्त्रियों को गर्भपात का डर रहता है। उनके लिए नुस्खा बहुत ही असरकारक है। उन्हें मुलेठी पंचतृण और कमल की जड़ का को हर महीने 1 हफ्ते तक दूध में उबालकर और घी डालकर पीना चाहिए।
  2. प्रेगनेंसी में बुखार होने पर मुलेठी लाल चंदन, गौरी सत, कमल जड – इन सब का काढ़ा बनाकर खिलाने से प्रेग्नेंट स्त्री का बुखार दूर हो जाता है।
  3. प्रेग्नेंट स्त्री के 20 नाखूनों पर सफेद संखिया का लेप करने से शीत ज्वर दूर होता है। लेकिन इसका स्पर्श खाद्य पदार्थों में ना हो इसका विशेष ध्यान रखा जाए।
  4. प्रेगनेंसी में अतिसार दस्त होने पर प्रेग्नेंट स्त्री को बकरे का ताजा दूध पिलाया जाता है और पीते समय हर घूँट के साथ एक बूंद नींबू का रस निचोड़ते जाए तो दस्त बंद हो जाते हैं।
  5. प्रेग्नेंसी में पेशाब का रुक रुक कर होना प्रेग्नेंट स्त्री मुत्र मार्ग में अवरोध होता हो तो पंचतृण का दाग की जड़ को दूध में उबालकर पिलाने से पेशाब खुलकर आने लगता है।
  6. प्रेग्नेंट स्त्री को गाय के दूध में मुनक्का और शोंथ डालकर पकाया हुआ दूध ठंडा करके पिलाने से सर्वांग शोथ दूर हो जाता है।
    गर्भावस्था के दौरान ध्यान रखने
  7. गर्भावस्था के दौरान खुद का अच्छे से ख्याल रखे। क्योंकि आप स्वस्थ रहेंगे तभी आप एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे पाएंगी। प्रेगनेंसी केयर के बारे मै किताबें पढ़ना भी फायदेमंद है।
  8. गर्भावस्था के दौरान आपके चेहरे पर डेन या मुँहासे होने लगते है। इस वक्त आप किसी भी क्रीम का इस्तेमाल ना करे। और डर्मेटोलॉजिस्ट से संपर्क करे।
  9. कई बार आपकी त्वचा रूखी और बेजान हो जाती है। इसके लिए अच्छे मॉइस्चराइजर का इस्तेमाल करे। इससे आपकी त्वचा खिली रहेंगी और आप फ्रेश महसूस करेंगे।
  10. मक्के के आटे में शहद को मिलाये। फिर इस मिश्रण को स्क्रब की तरह लगाए। ग्रभवस्था में बालों के झड़ने की समस्या बहुत होती है। अगर ये समस्या शुरू हो जाये तो आप अपने बालो को कटवा लीजिये ताकि ये समस्या कम हो जाये। Pregnancy Care

गर्भावस्था के दौरान पति भी रखे अपनी पत्नी का ख्याल

  • जब महिला गर्भवती होती है। तो उसमें बहुत सारे परिवर्तन होते है। जैसे कभी ख़ुशी तो कभी चिड़चिड़ाहट। ऐसे दौर मे पति उनके साथ रहे और उन्हें खुश रखने मे मदद करे।
  • पतियों को गर्भवती महिला (Pregnant woman) के रूटीन चेकअप का भी ध्यान रखना चाहिए। जैसे उन्हें कब कोनसा इंजेक्शन लगवाना है या कोनसी दवाई कब खिलना है।
  • कई बार गर्भवती महिला को ऐसा लगता है की वो अच्छी नहीं दिख रही है। आपको चाहिए कि आप उन्हें दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला होने का एहसास करवाए। Pregnancy Care

गर्भावस्था के दौरान संभोग (सेक्स) Sex during pregnancy

प्रेगनेंसी के हर चरण पर सेक्स करना सुरक्षित ही होता है, लेकिन आपको हमेशा अपने डॉक्टर से इस बारे में सलाह ज़रूर लेनी चाहिए की कहीं आपके गर्भधारण को लेकर इससे कोई परेशानी तो नहीं होगीI अगर आपके पहले गर्भपात हुआ है, तो शायद आपका डॉक्टर आपको सलाह दे की प्रेगनेंसी के पहले चरण में, यानी पहले तीन महीनो तक आप सेक्स ना करेंI लेकिन अगर आपकी प्रेगनेंसी में कोई परेशानी नहीं है, तो आप प्रेगनेंसी के आखिरी चरण तक सेक्स कर सकते हैं. Sex during pregnancy.
और अपने बच्चे की चिंता ना करें: बच्चा माँ के गर्भ में बहुत अच्छे से सुरक्षित होता हैI योनि के अंदर लिंग डालने से उसको कोई नुक्सान नहीं पहुचताI हाँ ये ज़रूर है की सेक्स की कुछ मुद्राएं आपको कम्फर्टेबल ना लगे और ये भी ह्यां रखना ज़रूरी है की आपके पेट पर किसी भी तरह का दबाव ना पड़े. Pregnancy Care in Hindi

आपने जाना प्रेगनेंसी केयर इन हिंदी (Pregnancy Care in Hindi). जो भी कोई महिलाएं गर्भधारण करने का प्लान कर रही है वो ऊपर दी गयी बातो को ख्याल रखे। उनके परिवार भी महिला का अच्छे से ध्यान रखें ताकि महिला एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सके।  Pregnancy Care , Sex during pregnancy

जी हाँ, प्रेगनेंसी के दौरान सेक्स आपके लिए और आपके बच्चे के लिए अच्छा भी साबित हो सकता हैI इससे आपको कामुक आनंद तो मिलता ही है और शरीर की कसरत भी होती है जिससे आपके एंडोर्फिन भी स्रावित होता है आपके खून में औ आपको बहुत अच्छा और खुशनुमा महसूस करता है. और ये भावनाएं आपके बच्चे तक भी पहुचती हैं. Pregnancy Care ,Sex during pregnancy
और अगर आपका बच्चा जल्द ही आने वाला है तो सेक्स शायद आपको लेबर के लिए भी तैयार करता है, क्यूंकि ओर्गास्म आपके गर्भाशय को सिकुड़ने में मदद करता है जो की लेबर के दौरान काम आता हैI और पुरुष का वीर्य में एक हार्मोन होता है जिसे प्रोस्टाग्लेडिन कहते हैं, और ये गर्भाशय ग्रीवा को मुलायम बनाता है और लेबर के दौरान सिकुड़न में मदद भी करता है.

loading...

Leave a Reply

How to whitelist website on AdBlocker?