निकला हुआ पेट अंदर करने के 10 सिंपल नुस्खे

भारत में मोटे लोगों की तादाद तेजी से बढ़ रही है। आज करीब 4 करोड़ 10 लाख ऐसे लोग भारत में मौजूद हैं, जिनका वजन सामान्य से कहीं ज्यादा है।

0
1067
पेट अंदर करने के घरेलू उपाय, पेट निकलने का कारण, पेट कम करने के व्यायाम,

अनियमित खान-पान तथा बेपरवाह लाइफ स्टाइल वजन बढ़ाने में योगदान कर सकते हैं, लेकिन समाधान काफी सरल है। बस अपने आहार में फाइबर की मात्रा में वृद्धि करके, आप अपने पेट को अंदर और पाचन तंत्र को तंदरुस्त रख सकते हैं। देखिए चर्बी घटाने के लिये व्यायाम बेहद ज़रूरी है। आलसी जीवन शैली से मोटापा बढता है इसलिए सक्रियता बहुत जरूरी है। आइये आपको कुछ ऐसी छोटी-छोटी बातें बताएं जिनसे आप ज़्यादा मेहनत किए बिना अपना शरीर छरहेरा कर सकते हैं….

1. शहद और नींबू कर सकते हैं जादूशहद और नींबू कर सकते हैं जादू

वजन कम करने के कई तरीके हैं जो काफी सरल है तथा बिना किसी परेशानी के किया जा सकता है जैसे गर्म पानी के साथ शहद- रोजाना सुबह खाली पेट गर्म पानी के साथ शहद पीने से वजन घटाने में बहुत आसानी होती है। इससे शरीर में शुगर का लेवल मेनटेन रहता है और त्वचा भी दमकती है। वजन घटाने के लिए रोज सुबह खाली पेट नींबू पानी का सेवन भी एक कारगर उपाय है।

2. टमाटर का जूसटमाटर का जूस

एक कप टमाटर के जूस में एक कप दही (बिना मलाई वाला), आधा चम्मच नींबू का रस, बारीक कटा अदरक, काली मिर्च व स्वादानुसार नमक मिलाकर ब्लेंड कर लें। रोज एक ग्लास इस शेक को पीने से आपका वजन तेजी से गिरेगा।

3. खूब पियें पानीखूब पियें पानी

दिन में आठ से नौ ग्लास पानी पीने से भी वेट कम करने में मदद मिलती है। कई शोधों में माना गया है कि दिन में आठ से नौ ग्लास पानी से 200 से 250 कैलोरी आप बर्न कर सकते हैं।

4. ग्रीन टी पियेंग्रीन टी पियें

युनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड मेडिकल सेंटर के शोधकर्ताओं ने अपने शोध में माना की ग्रीन टी में विशेष प्रकार के पोलीफेनॉल्स पाए जाते हैं जिससे शरीर में फैट्स को बर्न करने में मदद मिलती है। करौंदे का जूस भी वजन घटाने में बहुत फायदेमंद है। इससे शरीर का मेटाबॉलिज्म ठीक रहता है और फैट्स कम करने में आसानी होती है

5. सोयाबीन है गुणकारीसोयाबीन है गुणकारी

सेयाबीन में मौजूद लेसिथिन केमिकल सेल्स पर फैट जमा होने से रोकता है। हफ्ते में कम से कम तीन बार सोयाबीन खाने से शरीर में फैट से लड़ने की क्षमता बढ़ती है। सब्जी या चावल आदि में डालकर खा सकते हैं। सोयाबीन क्रंच से उपमा या भूर्जी भी बना सकते हैं।

6. ड्राइ फ्रूटस खाएंड्राइ फ्रूटस खाएं

हमें डाई फ्रूटस रोज खाने चाहिए। इनमें बादामए किशमिश, अखरोट और पिस्ता ले सकते है। लेकिन ये यह फ्राइड न हो और इनमें नमक भी नहीं होना चाहिए। बादाम हमेशा बड़ी गिरी वाले ही लें क्योंकि इनमें तेल कम होता है। वैसे छोटी गिरी वाले मामड़ बादाम को बेहतरीन माना जाता है क्योंकि इसमें अच्छे ऑइल होते वनज कम करने बड़ी गिरी के बादाम ही बेहतर होते हैं। छुहारे के यह फायदे, क्या आप‍को पता है 

7. गाजर के साथ चुकंदरगाजर के साथ चुकंदर

यदि मोटापा कम करना है ,तो गाजर के साथ चुकंदर का जूस मिलाकर पीना चाहिए। इससे ताकत तो मिलती ही है, मोटापा भी नहीं बढता। अनावश्‍यक चर्बी भी कम हो जाती है। चम्‍पा के बीजों के तेल से यदि पेट पर मालिश की जाए ,तो चर्बी घटती है। जो लोग दुबले पतले या चुस्‍त दुरूस्‍त रहना चाहते है उन्‍हे पालक का पर्याप्‍त मात्रा मे सेवन करना चाहिए। मोटापा दूर करने के लिए मेथी के साग की सब्‍जी पकाकर प्रतिदिन खाएं या इसके बीज को दो चम्‍मच लेकर पानी के साथ निगल जाएं। मेथी के फायदे और नुकसान (Benefits & Side Effects of Fenugreek

8. कोल्ड ड्रिंक्स को कहें अलविदाकोल्ड ड्रिंक्स को कहें अलविदा

सॉफ्ट ड्रिंक्स या कोल्ड ड्रिंक्स का बहुत अधिक सेवन करने वाले किशोर सावधान हो जाएं। हाल ही हुए एक शोध की मानें, तो मीठी ड्रिंक्स के अधिक सेवन से किशोरावस्था में मोटापे का खतरा बढ़ता है। यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिटिश कोलंबिया के शोधकर्ताओं की मानें, तो किशोरों में मोटापा बढ़ाने के लिए सॉफ्ट ड्रिंक या सोडा का सेवन पिज्जा, चिप्स जैसे फास्टफूड से भी ज्यादा जिम्मेदार है।

9. गोभी और पुदीने का कमालगोभी और पुदीने का कमाल

पत्ता गोभी(बंद गोभी) में चर्बी घटाने के गुण होते हैं। इससे शरीर का मेटाबोलिस्म ताकतवर बनता है। फ़लत: ज्यादा केलोरी का नाश होता है। इस प्रक्रिया में चर्बी समाप्त होकर मोटापा निवारण में मदद मिलती है। पुदीना में मोटापा विरोधी तत्व पाये जाते हैं। पुदीना रस एक चम्मच २ चम्मच शहद में मिलाकर लेते रहने से उपकार होता है।

क्या खाएं

अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो ऐसा खाना खाएं, जिसमें फैट कम हो बौ उसमें प्रोटीन व फाइबर अधिक मात्रा में हो। जैसे चोकर वाला आंटा, दलिया, जौ, राई, दही दूध, सोया मिल्क, सेब का जूस, गाजर का जूस, पाइनएपल जूस, औरेंज जूस, मल्टी ग्रेन ब्रेड, होल वीट ब्रेड, सेब अखरोट, औरेंज, अंगूर, बोभी, पालक, टमाटर, मटर, केला, मूंगफली, सोया, चना, राजमा, अंडे का सफेद हिस्सा। दर असल, कई चीजें सेहत के लिए बेहद लाभदायक होती है।क्या खाएं

क्या न खाएं

हमें ज्यादा कैलरी वाली चीजों के अलावा हाई ग्लाइसिमिक इंडेंक्स वे खाने जो शरीर में जाकर जल्दी ग्लूकोज में बदलते हैं, ऐसी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। जैसे वाइट ब्रेड, सैडविच, भरवां, पराठा, पुलाव, बिरयानी वाइट राइस, समोसे, पकौड़े, मिठाई, कोल्ड ड्रिंक, दूध वाली चाय, फुल क्रीम दूध, पनीर, मीठी लस्सी, उबला आलू, बिस्कुट, चिप्स, खजूद, चीनी, सरताफल, मटर, डोनट आदि चीजें स्वास्थ्य के लिए हानिकार होती हैं।

ये ना खाएं

कम नमक, कम शकर उपयोग करें। अधिक वसा युक्त भोजन पदार्थ से परहेज करें। तली गली चीजें इस्तेमाल करने से चर्बी बढती है। वनस्पति घी बेहद हानिकारक है। इनका संतुलित उपयोग उपकारी है। ज्यादा कर्बोहायड्रेट वाली वस्तुओं का परहेज करें जैसे आलू और चावल।

हेल्दी ही खाएं

केवल गेहूं के आटे की रोटी की बजाय गेहूं सोयाबीन, चने के मिश्रित आटे की रोटी ज्यादा फ़यदेमंद है। सूखे मेवे (बादाम,खारक,पिस्ता), अलसी के बीज, ओलिव आईल में अच्छी चर्बी होती है। शरीर के वजने को नियंत्रित करने में योगासन का विशेष महत्व है। कपालभाति, भस्त्रिका का नियमित अभ्यास करें। सुबह आधा घंटे तेज चाल से घूमने जाएं। वजन घटाने का सर्वोत्तम तरीका है।

10. आज़माएँ वॉटर थेरेपी

एक अध्ययन का निष्कर्ष आया है कि वाटर थिरेपी मोटापा की समस्या हल करने में कारगर सिद्ध हुई है। सुबह उठने के बाद प्रत्येक घंटे के फ़ासले पर 2 गिलास पानी पीते रहें। इस प्रकार दिन भर में कम से कम 20 गिलास पानी पीयें। इससे विजातीय पदार्थ शरीर से बाहर निकलेंगे और मेटाबोलिस्म तेज होकर ज्यादा केलोरी बर्न होगी ,और शरीर की चर्बी कम होगी। अगर 2 गिलास के बजाये 3 गिलास पानी प्रति घंटे पीयें तो और भी तेजी से मोटापा निवारण होगा।

डायटिंग नहीं है मोटापा कम करने का उपायडायटिंग नहीं है मोटापा कम करने का उपाय

आज अधिकतर लोग अपने बढ़ते वजन और मोटापे से परेशान हैं। और इसी परेशानी से निजात पाने के लिए सबसे पहले अगर लोगों के दिमाग में कोई बात आती है तो वो है डाइटिंग। लेकिन एक्सपर्टस का यह कहना है कि लोगों का यह सोचना कि डाइटिंग से ही मोटापे को कम किया जा सकता है तो लोग बिल्कुल गलत सोचते हैं। उनका यह कहना है कि वक्त पर सही डाइट लेने से स्वास्थ्य ठीक रहता है और इससे मोटापा भी नहीं बढ़ता है।

ध्यान रखने योग्य बातें

कई बार हमारा दिमाग पहचान नहीं पाता है कि भूख है या प्यास। ऐसे में जब भी भूख लगे, एक गिलास पानी पी लें। अगर फिर भी भूख लगे तो कुछ खा लें। इससे खाने का हिस्सा कम हो जाता है और पेट के भरे होने का अहसास भी होता है। तीन बार खाना न खा कर पांच या सात बार खाएं। ध्यान रहे कि मेन मील कभी वजन नहीं बढ़ाता। बीच-बीच में जो खाते है, वहीं वनज बढ़ाता है। सनैक्स हमेशा हेल्दी खाएं क्योंकि इससे देर तक पेट भरे होने का अहसास होता है।
बहुत ज्यादा भूख लगने से पहले कुछ खा लें। मसलन रात 8 बजे डिनर का इंतजार करने से अच्छा है 7 बजे कोई फल खा लेना। खाना खाने के 20 मिनट बाद दिमाग को पेट भरे होने का मेसेज मिलता है और उसके बाद ही भूख शांत होने का अहसास होता है, इसलिए धीरे-धीरे और चबा-चबा कर खाना चाहिए।

वजन घटाने के लिए कुकिंग का तरीका बदलना बहुत जरूरी है। डीप फ्राई से बचें और खाने में तेल की मात्रा कम करें। खाना जितना मुमकिन हो, भाप में पकाएं। डिनर और सोने के बीच दो-घंटे का फासला होना चाहिए, वरना पेट पर फैट जमा हो जाता है। रात में हेवी कार्बोहाइड्रेड जैसे आलू, चावल, अरबी, जिमीकंद आदि न लें।

फैट कम ले, लेकिन पूरी तरह बंद न करें। विटामिन A, K, M, और G फैट में घुलते हैं। विटामिन ई स्किम के लिए और बल्ड क्लॉटिंग (खून बहने से रोकने) के लिए विटामिन के होता है। थोड़ी मात्रा में अच्छे फैट (ऑलिव ऑयल, मूंगफली का तेल, कनोला का तेल) आदि ले सकते हैं।

मोटापा घटाने के लिए कोशिश करे कि आप भोजन भूख से थोड़ा कम ही लें । इससे पाचन भी ठीक होता है और पेट बहार नहीं निकलता है। पेट में गैस नहीं बने इसका खयाल रखना चाहिए। गैस के तनाव से तनकर पेट बड़ा होने लगता है।

अन्य पढ़े-

LEAVE A REPLY