जानिए, मोती रत्न के फायदे

Benefits Of Pearl According To Astrology ; मोती मुख्य रूप से रत्न नहीं बल्कि एक जैविक संरचना है। इसके बावजूद, इसे नवरत्न की श्रेणी में रखा गया है। यह मुख्य रूप से चंद्रमा का रत्न है। कभी-कभी इसका उपयोग दवा के रूप में भी किया जाता है। चंद्रमा की तरह, इसका रत्न भी शांत, सुंदर और शीतल है। यह सीधे मन और शरीर के रसायनों को प्रभावित करता है। Pearl का प्रभाव कभी तेज नहीं होता, यह धीरे-धीरे और सूक्ष्म रूप से प्रभाव डालता है, इसलिए लोगों को लगता है कि Pearl कभी नुकसान नहीं पहुंचा सकता है, जबकि मोती धीरे-धीरे बहुत नुकसान कर सकता है।

मोती पहनने के क्या फायदे हैं?

* यह मन को शांत करता है, तनाव कम करता है

* नींद में सुधार, डर से राहत देता है

* हार्मोन को संतुलित करता है

* कभी-कभी वित्तीय पक्ष बहुत अच्छा बनाता है

* यह आमतौर पर डॉक्टरों को फायदा पहुंचाता है

अगर मोती नुकसान करता है तो नुकसान क्या हैं?

मोती पहनने में सावधानी की सबसे ज्यादा जरूरत होती है, क्योंकि यह मानसिक स्थिति को धीरे-धीरे प्रभावित कर सकता है। इससे गंभीर अवसाद और तनाव की समस्या हो सकती है। यह घबराहट, बेचैनी और चिड़चिड़ापन बढ़ा सकता है। इससे हार्मोन का संतुलन बिगड़ सकता है। कई बार बिना वजह ब्लड प्रेशर की समस्या हो जाती है।

मोती किसे पहनना चाहिए और किसे नहीं?

  • अलग-अलग भावों के अनुसार और अलग-अलग तत्वों के अनुसार मोती पहनना शुभ होता है
  • मेष, कर्क, वृश्चिक और मीन लग्न के लिए मोतियों की माला पहनना सर्वोत्तम है।
  • Pearl पहनना वृषभ, मिथुन, कन्या, मकर और कुंभ राशि वालों के लिए खतरनाक है
  • सिंह, तुला और धनु राशि के लोग विशेष परिस्थितियों में मोतियों की माला पहन सकते हैं
  • अत्यधिक भावुक लोगों और क्रोधी लोगों को मोती नहीं पहनने चाहिए

कैसे पहनें?

* सोमवार की रात शुक्ल पक्ष की छोटी उंगली में चांदी की अंगूठी में मोती पहनें।

* आप इसे पूर्णिमा पर भी पहन सकते हैं

* इसे पहनने से पहले इसे गंगा जल से धोकर शिव को अर्पित करें

* आप पीले रंग का पुखराज और मूंगा मोती के साथ पहन सकते हैं, अन्य रत्नों के साथ नहीं।

[quick_offer id=33423]

जानें, क्या है शनि की साढ़ेसाती और इसके अशुभ प्रभाव

आप हमसे  Facebook, +google, Instagram, twitter, Pinterest और पर भी जुड़ सकते है ताकि आपको नयी पोस्ट की जानकारी आसानी से मिल सके।