प्रकृति की ओर से जामुन एक अनमोल तोहफा है। स्वादिष्ट होने के साथ-साथ यह अनेक रोगों की अचूक दवा भी है। जर्मन वैज्ञानिकों ने जामुन पर एक शोध किया। अपनी शोध रिपोर्ट में उन्होंने लिखा है, ‘जामुन की पत्तियाँ महिला सेक्स हार्मोन ‘प्रोजेस्टिरोन’ के स्राव में वृद्धि कर उसे संतुलित रखती हैं और विटामिन ‘ई’ की सात्मयीकरण की क्रिया को उन्नत करती है।’आयुर्वेद के प्रमुख आचार्य चरक द्वारा सुप्रसिद्ध ग्रंथ, ‘चरक संहिता’ में वर्णित औषधीय योग ‘पुष्यानुग-चूर्ण’ में भी जामुन की गुठली मिलाए जाने का विधान है। इस संहिता के अनुसार जामुन की छाल, पत्ते, फल, गुठलियाँ, जड़ आदि सभी आयुर्वेदिक औषधियाँ बनाने में काम आते हैं। जामुन में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट तथा कैल्शियम भी बहुतायत में पाया जाता है। 

खट्टे-मीठे जामुनों में छिपा है, रोगों से लडने का राज (ब्लैकबेरी )

मोसम के अनुसार पाए जाने वाला यह ऋतुफल भीषण गर्मियों के मौसम में पाए जाते हैं। यह स्वाद में खट्टा-मीठा होता है, भोजन के बाद 100 ग्राम जामुन फल का सेवन गर्मियों से जुड़े कई विकारों में बहुत फायदेमंद साबित होता है। ब्लैकबेरी के बीजों को छांव में सुखाकर तैयार किया गया चूर्ण प्रतिदिन सेवन करने से मधुमेह में काफी फायदा होता है। पातालकोट के आदिवासी मानते हैं कि यही चूर्ण 2-2 ग्राम मात्रा बच्चों को देने से बच्चे बिस्तर पर पेशाब करना बंद कर देते हैं। इस फल में काई प्रकार के रोगों से लडने की क्षमता होती है। इसमें छिपे गुणों का आपना एक अलग ही राज है।

इटिशियन की माने तो इसके बहुत फयदे है

जामुन कार्बोहाड्रेट, फाइबर, कैल्शियम, आरयन और पोटैशियम से भर होता है।जामुन की गुठली चिकित्सा की दृष्टि से अत्यंत उपयोगी मानी गई है। इसकी गुठली के अंदर की गिरी में ‘जंबोलीन’ नामक ग्लूकोसाइट पाया जाता है। यह स्टार्च को शर्करा में परिवर्तित होने से रोकता है। इसी से मधुमेह के नियंत्रण में सहायता मिलती है। यह रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करके मधुमेह से बचाता है।

एंटीअआॅक्सीडेंट्स जैसे फ्लेवोनाॅएड्स होने से स्मरण-शक्ति दुरूस्त रहता है। मस्तिष्क की कोशिकाओं की क्षमता घटने से याद्दाश्त कमजोर हो जाती है।

Calories in Jamun Fruit || Nutrition Facts

 Servings: 1.0140 gms Servings: 1.0140 gms
1Calories8010Sodium40 mg
2Total Fat0 g11Potassium79 mg
3Saturated0 g12Total Carbs14 g
4Polyunsaturated0 g13Dietary Fiber1 g
5Monounsaturated0 g14Sugars5 g
6Trans0 g15Protein1 g
7Cholesterol0 mg16Calcium2%
8Vitamin A0%17Iron4%
9Vitamin C45%
* प्रतिशत दैनिक मूल्य 2000 कैलोरी आहार पर आधारित हैं आपकी कैलोरी की आवश्यकताओं के आधार पर आपके दैनिक मूल्य अधिक या निम्न हो सकते हैं

पाचन क्रिया को मजबूत बनाए

पाचन क्रिया को मजबूत बनाए रखने के लिए भी ब्लैकबेरी बहुत फायदेमंद होता है। जामुन के कच्चे फलों का सिरका बनाकर पीने से पेट के रोग ठीक होते हैं। अगर भूख कम लगती हो और कब्ज की शिकायत रहती हो तो इस सिरके को ताजे पानी के साथ बराबर मात्रा में मिलाकर सुबह और रात्रि, सोते वक्त एक हफ्ते तक नियमित रूप से सेवन करने से कब्ज दूर होती है और भूख बढ़ती है। ब्लैकबेरी खाने से पेट से जुडी समस्याएं दूर हो सकती हैं।

जामुन में भरपूर मात्रा में ग्लूकोज और फ्रुक्टोज पाया जाता है। इसमें लगभग वे सभी आवश्यक लवण पाए जाते हैं, जिनकी शरीर को जरूरत होती है।

Nutrition Facts, jamun ke fayde in hindi

जामुन खाने के है अनगिनत फायदे

  • ब्लैकबेरी में भरपूर मात्रा में आयरन होता है, जो शरीर में खून की कमी नहीं होन देता।
  •  दांत और मसूडों से जुडी कई समस्याओं के समाधान में भी जामुन विशेषतौर पर फायदेमंद होता है। इसके बीज को पीस लीजिए। इससे ब्रश करने से दांत और मसूडे हमेशा स्वस्थ रहते हैं।
  • ब्लैकबेरी के बीज का उपयोग मुहांसे ठीक करने के लिए भी होता है। बीज पीस लें और गाय के दूध में मिलाकर रात में सोने से पहले चेहरे पर लगांए। सुबह धो लें।
  • इसमें पर्याप्त मात्रा में आयरन और विटामिन सी होता है। जामुन में मौजूद आयरन हिमोग्लोबीन काउंट को बढाने के साथ ही खून भी साफ करता है।
  • यह हृदय को भी स्वस्थ रखता है। 100 ग्राम जामुन में 55 मिली ग्राम पोटैशियम होता है, जो हृदय रोग, उच्च रक्तचाप और स्ट्रोक के खतरे को कम करता है।
  • इसकी पत्तियां खाने से पाचन तंत्र से संबंधित डिसआॅर्डर नहीं होते। अल्सर, दस्त, लिवर रोग जैसे फाइब्रोसिस आदि से भी बचाव होता है।

इसमें काई तत्व होते हैं जो कैंसर, पथरी आदि की रोकथाम में सहायक होते हैं। इसके बीज को सुखाकर बारीक पीस लें। इसे पानी के साथ मिलाकर सेवन करने से मधुमेह में भी लाभ होता है।

पथरी का इलाज

ब्लैकबेरी के बीजों को सूखाकर इनका सेवन पानी के साथ करें, इसका सेवन करने से आपको पथरी की समस्या कभी नहीं होती है। अगर आप इस समस्या से जुझ रही हैं तो ऐसे में आप ब्लैकबेरी के बीजों का सेवन अवश्य कर सकती हैं।

त्वचा में निखार

Blackberry ऑयली त्वचा के लिए बहुत अच्छा फल माना जाता है। आप चाहें तो जामुन का सेवन सीधे भी कर सकती हैं या तो आप जामुन का पेस्ट बनाकर इसे अपने चेहरे पर भी लगा सकती हैं।

दांतों को मजबूत बनाएं

ब्लैकबेरी का सेवन करके हमारे दांतों और मसूड़े मजबूत होते हैं। इसके बीजों को पीसकर एक पेस्ट तैयार कर सकते हैं। इस पेस्ट से रोज मंजन(ब्रश) करने से दांत मजबूत होते हैं।

पेट की गर्मी को दूर करें

अक्सर पेट की गर्मी से बहुत लोग परेशान रहते है। जिसका कारण मसालेदार खाना होता है। हम आपको बता दें कि ऐसे में आप जामुन के फलों का सेवन कर सकती हैं, जिससे आप की ये समस्या दूर हो जाएगी।

benefits of jamun in hindi language || jamun ke nuksan || jamun khane ke nuksan || jamun ke beej ka powder || jamun ka sirka ke fayde || jamun ke fayde aur nuksan || jamun ke nuksan in hindi || jamun ke ped ke fayde in hindi

LEAVE A REPLY