Chanakya Niti in hindi Chanakya Niti Quotes – चाणक्य  नीति हिंदी में

Chanakya Niti Quotes : शत्रु के गुण को भी ग्रहण करना चाहिए

Should assume the enemy properties.

Chanakya Niti Quotes : अपने स्थान पर बने रहने से ही मनुष्य पूजा जाता है

Man is staying at your place of worship.

Chanakya Niti Quotes : सभी प्रकार के भय से बदनामी का भय सबसे बड़ा होता है

The biggest fear of all fears is slander.

Chanakya Niti Quotes :  किसी लक्ष्य की सिद्धि में कभी शत्रु का साथ न लें

Do not ever with the enemy in the accomplishment of a goal.

Chanakya Niti Quotes : आलसी का न वर्तमान होता है, न भविष्य

The lazy one is not present, not the future.

Chanakya Niti Quotes : सोने के साथ मिलकर चांदी भी सोने जैसी दिखाई पड़ती है अर्थात सत्संग का प्रभाव मनुष्य पर अवश्य पड़ता है

Together with visible gold, including silver, gold, ie effects on man must have a satsang.

Chanakya Niti Quotes : ढेकुली नीचे सिर झुकाकर ही कुँए से जल निकालती है अर्थात कपटी या पापी व्यक्ति सदैव मधुर वचन बोलकर अपना काम निकालते है

Dekuli bowed down water from the wells, ie hypocrites or sinful person draws his job by speaking out the Word is always sweet.

Chanakya Niti Quotes : सत्य भी यदि अनुचित है तो उसे नहीं कहना चाहिए

If true, then he should not unfair.

Chanakya Niti Quotes : समय का ध्यान नहीं रखने वाला व्यक्ति अपने जीवन में निर्विघ्न नहीं रहता

While the attention of a person in your life is not smooth.

Chanakya Niti Quotes : जो जिस कार्ये में कुशल हो उसे उसी कार्ये में लगना चाहिए

Be proficient in the tasks which should be in the same tasks.

Chanakya Niti Quotes : ऋण, शत्रु और रोग को समाप्त कर देना चाहिए

Debt, should the enemy and eliminate disease.

Chanakya Niti Quotes : वन की अग्नि चन्दन की लकड़ी को भी जला देती है अर्थात दुष्ट व्यक्ति किसी का भी अहित कर सकते है

Sandal wood forest fire that burns the wicked person can harm anyone.

Chanakya Niti Quotes : शत्रु की दुर्बलता जानने तक उसे अपना मित्र बनाए रखें

Keep up to let him know the enemy’s weakness.

Chanakya Niti Quotes : सिंह भूखा होने पर भी तिनका नहीं खाता

Straw does not even hungry lion.

Chanakya Niti Quotes : एक ही देश के दो शत्रु परस्पर मित्र होते है

Two enemies of the country are the same mutual friends.

Chanakya Niti Quotes : आपातकाल में स्नेह करने वाला ही मित्र होता है

The affection is the only friend in emergency.

Chanakya Niti in hindi : : मित्रों के संग्रह से बल प्राप्त होता है

Force is derived from the collection of friends.

Chanakya Niti in hindi :चाणक्य नीति हिंदी में: जो धैर्यवान नहीं है, उसका न वर्तमान है न भविष्य

The patient is not present, not the future.

चाणक्य नीति हिंदी में : संकट में बुद्धि ही काम आती है

Wisdom comes only work in crisis.

चाणक्य नीति हिंदी में :: लोहे को लोहे से ही काटना चाहिए

Must disconnect iron from iron.

चाणक्य नीति हिंदी में : यदि माता दुष्ट है तो उसे भी त्याग देना चाहिए

Parents also should be avoided, if the wicked.

चाणक्य नीति हिंदी में : : यदि स्वयं के हाथ में विष फ़ैल रहा है तो उसे काट देना चाहिए

If you own handheld expands strike poison.

चाणक्य नीति हिंदी में :: सांप को दूध पिलाने से विष ही बढ़ता है, न की अमृत

Feeding the snake venom increases, not the elixir.

चाणक्य नीति हिंदी में : एक बिगड़ैल गाय सौ कुत्तों से ज्यादा श्रेष्ठ है अर्थात एक विपरीत स्वाभाव का परम हितैषी व्यक्ति, उन सौ लोगों से श्रेष्ठ है जो आपकी चापलूसी करते है

Best is a rogue cow that is more than a hundred dogs most lucid person of the opposite nature, which is superior to those hundred people to your flattering.

चाणक्य नीति हिंदी में : कल के मोर से आज का कबूतर भला अर्थात संतोष सबसे बड़ा धन हैMore Pigeon from yesterday’s good that today is contentment the greatest wealth.

चाणक्य नीति हिंदी में : आग सिर में स्थापित करने पर भी जलाती है अर्थात दुष्ट व्यक्ति का कितना भी सम्मान कर लें, वह सदा दुःख ही देता है

The fire that burns in the head to establish how much of the respect that make wicked person, He always gives sorrow.

चाणक्य नीति हिंदी में : अन्न के सिवाय कोई दूसरा धन नहीं है

There is no other money except food.

चाणक्य नीति हिंदी में : भूख के समान कोई दूसरा शत्रु नहीं है

Hunger is not an enemy like no other.

चाणक्य नीति हिंदी में : विद्या ही निर्धन का धन है

The wealth of knowledge is poor.

चाणक्य नीति हिंदी में : विद्या को चोर भी नहीं चुरा सकता

Thieves can steal knowledge.

यह भी पढें –

महात्मा गांधी के अनमोल वचन

LEAVE A REPLY