Apne Blog Ya Website par ADNOW Ads Lagaye

चालीसा

प्रेतराज सरकार की आरती, Shri Pretraj Sarkar

प्रेतराज सरकार की आरती – Pretraj Sarkar Ji Ki Aarti

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर का इतिहास | मेहंदीपुर बालाजी के नियम प्रेतराज सरकार भूत प्रेतों के राजा है। इनकी पूजा करने से हर तरह की भूत चुड़ेल बाधा से मुक्ति मिलती है। यह राजस्थान के प्रसिद्ध मेहंदीपुर...
प्रेतराज सरकार की आरती, Shri Pretraj Sarkar

श्री प्रेतराज चालीसा – Shree Pretraj Chalisa

प्रेतराज सरकार को दुष्ट आत्माओं को दंड देने वाले देवता के रूप मे पूजा जाता है। अत्यंत भक्ति भाव से उनकी आरती , भजन कीर्तन किये जाते हैं। प्रेतराज सरकार की बालाजी के सहायक...
Ashtlaxmi Stotram

धन-संपदा के लिए पढ़ें अष्टलक्ष्मी स्तोत्रम् संस्कृत

लक्ष्मी माता को धन की देवी कहते है। यदि लक्ष्मी माँ की कृपा हो जाए तो रंक भी राजा बन जाता है। रोजाना नियमित रूप से अष्टलक्ष्मी स्तोत्रम् का पाठ करने से बहुत ही...
laxmi chalisha in hindi

देवी माता महालक्ष्मी जी का चालीसा

लक्ष्मी माता को धन की देवी कहते है। यदि लक्ष्मी माँ की कृपा हो जाए तो रंक भी राजा बन जाता है। रोजाना नियमित रूप से लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने से बहुत ही...
श्री दुर्गा चालीसा, Shri Durga Chalisa

Shri Durga Chalisa in Hindi – श्री दुर्गा चालीसा

श्री दुर्गा चालीसा (Shri Durga Chalisa)नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥ निरंकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूँ लोक फैली उजियारी॥ शशि ललाट मुख महाविशाला। नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥ रूप मातु को अधिक सुहावे। दरश...
hanuman chalisa

Hanuman Aarti | हनुमान जी की आरती।

Hanuman Aarti | हनुमान जी की आरतीआरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।। जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके।। अनजानी पुत्र महाबलदायी। संतान के प्रभु सदा सहाई। दे बीरा...
हनुमान अष्टक संकट मोचन नाम तिहारों

हनुमान अष्टक संकट मोचन नाम तिहारों | Hanuman Ashtak Hindi

हनुमान अष्टक संकट मोचन नाम तिहारोंबाल समय रवि भक्षी लियो तब, तीनहुं लोक भयो अंधियारों । ताहि सों त्रास भयो जग को, यह संकट काहु सों जात न टारो । देवन आनि करी बिनती तब, छाड़ी दियो रवि कष्ट...
मंगलवार व्रत विधि (Mangalvar Vrat Vidhi in Hindi)

सम्पूर्ण श्री हनुमान चालीसा | Hanuman Chalisa Hindi

 श्री हनुमान चालीसा ॥दोहा॥श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि । बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि ॥ बुद्धिहीन तनु जानिके सुमिरौं पवन-कुमार । बल बुधि बिद्या देहु मोहिं हरहु कलेस बिकार ॥ श्री हनुमान...