methi ke nuksan, methi ke pani ke fayde, hari methi ke fayde in hindi, methi dana benefits for hair in hindi,fenugreek benefits in hindi, fenugreek in punjabi, fenugreek seeds meaning in hindi, fenugreek in marathi,


Top Benefits And Side Effects of Fenugreek in Hindi

मेथी के बेनिफिट्स के बारे में आप अभीतक अनजान है तो आपके लिए ही यह पोस्ट है। आपको बता दे की मेथी के अनगिनत फायदे है। यह एक सब्जी और मसाले के साथ औषधीय जड़ी बूटी भी है। आयुर्वेद के अनुसार नियमित आधार पर फेनुग्रीक का उपयोग करके अपने स्वाथ्य को निरोगी रख सकते है।

क्यों करे मेथी का सेवन? क्योंकि इसके अद्भुत स्वास्थ्य लाभ हैं जो आपके स्वास्थ्य को बदल सकते हैं और बेहतर तरीके से आपका जीवन में ताजगी ला सकते हैं।

कैसे? तो सूजन से शुरू करते है। आपको बता दे कि हाल के शोधों से पता चला है, इसके आंतरिक और बाहरी सूजन को कम करने में मदद करती है। इसके अलावा आपके यौन जीवन और प्रजनन प्रणाली में सुधार के साथ-साथ बच्चों के लिए पोषण का खज़ाना है।

(यह भी पढ़ें: क्या आपको पता है, दूध के साथ केला खाने के फायदे?)

methi ke nuksan, methi ke pani ke fayde, hari methi ke fayde in hindi, methi dana benefits for hair in hindi,

मेथी क्या है? Methi Kya Hai

इसके हरे पत्ते और छोटे सफेद फूलों वाली एक जड़ी बूटी है। यह मटर प्रजाति (फैबैसी) से सम्बंधित है और इसे ग्रीक घास के रूप में भी जाना जाता है (Trigonella foenum-graecum)। मेथी का पौधा दो से तीन फीट लंबा पर खड़ा होता है, और बीज के फली में 10-20 छोटे, फ्लैट, पीले-भूरे रंग, तीखे और सुगंधित बीज होते हैं।

इसके बीज स्वाद में कुछ कड़वा होता है, जैसे अजवाइन, मेपल सिरप या जला हुआ शर्करा, और अक्सर दवा बनाने के लिए उपयोग किया जाता है। हालांकि, इसको पकाये जाने पर एक बहुत अधिक सुखद स्वाद मिलता है। सुखाये गए मेथी के पत्ते और इसके बीजों का व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है। इसके ताज़ी हरी पत्तियों को अक्सर साग या सब्जी के रूप में होता है।  साबुन और सौंदर्य प्रसाधनों के निर्माण में मेथी के अर्क पाए जाते हैं।

मेथी से निकला गया तेल एंटीबायोटिक, एंटीऑक्सिडेंट, एंटीबायटीक और एंटीम्युमोरिजनिक गतिविधियों के लिए जाने जाते हैं। उत्तरी अफ्रीका, मध्य पूर्व, मिस्र और भारत में इसकी खेती बड़े पैमाने पर की जाती है। पारंपरिक चिकित्सा में एक घटक के रूप में इसका एक लंबा इतिहास रहा है।यह भोजन को सुगन्धित और स्वादिष्ट बनाने के लिए एक मसाला एजेंट के रूप में भी उपयोग किया जाता है।

(यह भी पढ़ें: एरंड का तेल अरण्डी के तेल के फायदे )

मेथी में पाये जाने वाले पोषण तथ्य

1 बड़ा चमचा – मेथी के बीज में शामिल हैं: Fenugreek Seeds  facts

  • 35.5 कैलोरी
  • 6.4 ग्राम कार्बोहाइड्रेट
  • 2.5 ग्राम प्रोटीन
  • 0.7 ग्राम वसा
  • 2.7 ग्राम फाइबर
  • 3.7 मिलीग्राम लोहा (20 प्रतिशत डीवी)
  • 0.1 मिलीग्राम मैंगनीज (7 प्रतिशत डीवी)
  • 0.1 मिलीग्राम तांबा (6 प्रतिशत डीवी)
  • 21 मिलीग्राम मैग्नीशियम (5 प्रतिशत डीवी)
  • 32.6 मिलीग्राम फॉस्फोरस (3 प्रतिशत डीवी)
  • 0.1 मिलीग्राम विटामिन बी 6 (3 प्रतिशत डीवी)

मेथी के फायदे और उपयोग Fenugreek Benefits and Uses

हालांकि इसके सभी लाभों की पहचान और पुष्टि करने के लिए अभी और अधिक शोध की आवश्यकता है। यहाँ मेथी के स्वास्थ्य के मुख्य फायदों के बारे में बताया जा रहा है। जो निम्नलिखित है।

1. पाचन समस्याओं और कोलेस्ट्रॉल स्तर में सुधार

Fenugreek कई पाचन समस्याओं के लिए फायदेमंद हो होता है, जैसे कि पेट में दर्द, कब्ज और पेट की सूजन। उदाहरण के लिए, मेथी के पानी में घुलनशील फाइबर, अन्य खाद्य पदार्थों के बीच, कब्ज से राहत में मदद करता है।

  • यह पाचन का इलाज करने के लिए भी काम करता है और अक्सर इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभावों के कारण अल्सरेटिव कोलाइटिस आहार उपचार योजना में शामिल किया जाता है।
  •  Fenugreek से दिल की बीमारी वाले लोगों को भी लाभ होता है, जैसे कि धमनियों को सख्त करना और वसा के उच्च रक्त के स्तर, जिनमें कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड शामिल हैं।

(यह भी पढ़ें: आयुर्वेद के अनुसार जानिये आंवले के फायदे और उपयोग विधि )

2. शरीर के अंदर सूजन कम कर देता है

शरीर में सूजन चाहे वो किसी भी कारण से हो को कम करने में मददगार होता है। जैसे:

3. पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाता है

Fenugreek का इस्तेमाल पुरुषों के कई रोगो के उपचार में होता है जिसमें हर्नियास, स्तंभन और गंजापन दोष शामिल है। मेथी यौन उत्तेजना और टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ा सकता है।

हालांकि बीमारियों के इलाज के लिए प्राकृतिक उपचार का प्रयोग करने या यौन प्रदर्शन में सुधार करने से पहले चिकित्सकों से परामर्श करना सबसे अच्छा रहता है, मेथी से तैयार की गई खुराक पुरुषों में यौन इच्छा और परफोर्मेशन्स को बढ़ाने के लिए किया जाता है। साथ ही नपुंसकता का प्राकृतिक उपाय भी है।

4. स्तनपान करवाने वाली स्त्रियों में दूध के प्रवाह को बढ़ाता है

मेथी उन माताओं के लिए लाभदायक होती है। जिनके स्तनों में दूध की आपूर्ति नहीं है या बहुत कम है। मेथी महिला का दुग्ध आपूर्ति बढ़ा सकती है क्योंकि यह एक गैलेक्टोगॉग के रूप में काम करती है, जो दूध की आपूर्ति बढ़ाने वाला एक पदार्थ है। यह दूध के नलिकाओं को उत्तेजित करता है और दूध का उत्पादन 24 घंटों से भी कम समय में कर सकता है।

(यह भी पढ़ें: माता का दूध बढ़ाने के कुछ सरल उपाय)

5. शरीर के बाहर के सूजन कम करती है

आंतरिक सूजन को कम करने के अलावा, मेथी को कभी-कभी बाह्य रूप से एक पोल्टिस के रूप में प्रयोग किया जाता है, जिसका अर्थ है कि यह कपड़े में लपेटकर, गर्म और सीधे त्वचा पर लगाया जाने वाला। इससे बाहरी सूजन कम हो जाती है।

  • दर्द और मांसपेशियों और लिम्फ नोड्स में सूजन
  • गाउट
  • घाव
  • पैर अल्सर
  • कटिस्नायुशूल
  • रूसी
  • खुजली

पुल्टिस लगाने ने से पहले यह सुनिश्चित जरूर कर लेना चाहिए की वह सूजन जलने के वजह से न हो।


यह थोड़ा अजीब लगता है कि इन छोटे बीजों के किसी भी प्रकार का साइड इफेक्ट भी हो सकता है। लेकिन यह सच है! मेथी के बीज के कुछ साइड इफेक्ट होते हैं जो हम इस पोस्ट में चर्चा करेंगे। मेथी के पत्ते या मेथी के बीज के रूप में जाना जाता है सबसे आम रसोई सामग्री में से एक है और हर रसोईघर में आसानी से पाया जाता है।

आपके बहुत सारे रेसिपी जानते या बनाते हैं जिसमे मेथी के बीजों के बिना स्वाद या महक नहीं आएगी। क्युकी यह मुख्य रूप से मसाला के रूप में जाना जाता है। साथ ही इसे कई प्रकार के रोगो के इलाज के लिए हर्बल दवा के रूप में भी उपयोग किया जाता है। आप शायद जानते हे की मेथी की खेती ज्यादातर मध्य पूर्व और एशिया में की जाती है। ज्यादातर यह अपने स्वाद के लिए खाने में उपयोग किया जाता है, इसके अलावा यह स्वास्थ्य लाभों का एक पावर हाउस भी है।

मेथी के बीज मूल रूप से बहुत उपयोगी होते हैं और वास्तव में आपके शरीर को कोई नुकसान नहीं पहुंचाते है। लेकिन समस्या तब उठती है जब आप इसका उपयोग शुरू करते हैं। हालांकि दुष्प्रभावों के बारे में चिंता करने की कोई बात नहीं है। इसके उपयोग में थोड़ा सावधानी आपको सुरक्षित और स्वस्थ रखने में काफी मददगार होगी। आइए जानते है कि Fenugreek के Side Effects क्या हैं और आप उनसे कैसे बच सकते हैं।

मेथी सीड्स साइड इफेक्ट्स

1. मधुमेह:

यदि आप मधुमेह रोग से पीड़ित है, और इसके लिए आप दवाये ले रहे है तो आपको मेथी के सेवन में सावधानी बरतनी चाहिए। क्यूंकि जो दवाये आप ले रहे है वो पहले से ही आपके खून में शुगर लेवल को कम करती है। इस दौरान यदि आप इसका सेवन करते है तो आपके रक्त में शुगर की मात्रा बहुत कम हो सकती है। जो काफी घातक साबित हो सकती है।

(यह भी पढ़ें: Diabetes Diet: स्वाभाविक रूप से आपके रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रित करने में 6 खाद्य पदार्थ मदद कर सकते हैं)

2. गर्भावस्था:

इसमें ऑक्सीटोसिन होता है जो गर्भाशय के संकुचन को प्रेरित कर सकता है। गर्भवती मां के लिए यह हानिकारक हो सकता है और इससे समय से पहले प्रसव या गर्भपात हो सकता है इसलिए, गर्भवती महिलाओं को मेथी युक्त कोई भी पूरक लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

3. दस्त:

इसके के बीज में उच्च फाइबर सामग्री होती है जो दस्त का कारण बन सकती है। यदि ऐसा होता है तो आप सबसे पहले इसका उपभोग करना बंद कर दें, याद रखें कि यह दुष्प्रभाव तब होता है जब इसका सेवन ज्यादा मात्रा में करते है। मेथी के बीज की निर्धारित मात्रा का नियमित सेवन वास्तव में हमारे पेट और आंतों के लिए फायदेमंद है।

4. गंध: odor

यह मेथी के बीज खाने के सबसे आम अभी तक के हानिरहित साइड इफेक्ट में से एक है। जो लोग मेथी का नियमित रूप से उपयोग करते हैं। उनके शरीर से एक तेज़ गंध आती है। इस गंध को मैपल सिरप सिंड्रोम कहा जाता है, इसके बारे में चिंता करने की कोई बात नहीं है यह गंध केवल इसके खाने के कुछ घंटों तक ही रहती है। लेकिन इसके गंध से छुटकारा पाने का एकमात्र तरीका स्नान करना या अच्छा दुर्गन्ध दूर करने वाला डिओडोरेंट का इस्तेमाल है।

5. गैस और bloating:

यह एक साइड इफेक्ट है जो वास्तव में आपके आस-पास के लोगों को झेलना पड़ता है। ठीक है, इस पर किसी का कण्ट्रोल नहीं होता है। लेकिन, इस बदबूदार साइड इफ़ेक्ट के प्रभाव से बचने का एकमात्र तरीका सिर्फ खुराक को नियंत्रित करना है। पता लगाएँ कि आपके लिए सुझाए गयी खुराक क्या है और उसका कड़ाई से पालन करें। हलाकि, यह आपकी पाचन तंत्र की केवल एक प्रतिक्रिया है, निश्चित रूप से ऐसा कुछ है जिससे आपको बचने की आवश्यकता है।

6. ग्लूकोज स्तर को कम करता है:

इसके सेवन करने वाले लोगों के लिए अगला साइड इफ़ेक्ट हाइपोग्लाइसीमिया है। मेथी में मौजूद आहार फाइबर के कारण आपके ग्लूकोज का स्तर प्रभावित हो सकता है। इसलिए यदि आप इंसुलिन के प्रभाव में वृद्धि नहीं करना चाहते या अपने ग्लूकोज के स्तर को कम नहीं करना चाहते, तो कृपया इन बीजों से दूर रहें।

7. एलर्जी प्रतिक्रियाएं:

मेथी फैबेसी के परिवार से संबंधित हैं जिनमें मूंगफली, हरी मटर, सोयाबीन इत्यादि शामिल हैं। यदि आपको इन सबसे एलर्जी हैं,यदि आप मेथी के बीज भी खाते हैं! तो आप निश्चित रूप से कुछ एलर्जी प्रतिक्रियाओं का सामना कर सकते हैं।

8. दवा का इंटरेक्शन:

Methi ke Beej, रक्त के थक्के, उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर, उच्च रक्त शर्करा के स्तर आदि के लिए दवाओं में हस्तक्षेप कर सकते हैं। क्योंकि मेथी के बीज इन रोगों के लिए सुपर प्रभावी हैं, इसका निर्धारित दवा के साथ सेवन आपकी स्थिति को खराब कर सकती है। तो मेथी का उपयोग तुरंत बंद करें यदि आप पहले से ही इन दवाओं का सेवन कर रहे हैं।

9. बच्चों के लिए सुरक्षित नहीं:

हालांकि Fenugreek का कम मात्रा में उपभोग बच्चों के लिए सुरक्षित है, फिर भी जितना हो सके इसका सेवन बच्चो को करवाने से बचे। एक रिपोर्टें अनुसार, मेथी चाय सेवन करने वाले बच्चों में चेतना की हानि का दावा किया गया है। इसलिए यह एक ऐसा पेय है जिसे आपको अपने बच्चे के आहार से अलग करना होगा।

10. त्वचा जलन :

यह एक हल्का साइड इफेक्ट है लेकिन फिर भी आपको इसे ध्यान में रखना होगा। यदि आप मेथी के बीज का किसी भी प्रकार से जड़ी बूटी के रूप में प्रयोग कर रहे हैं और आपकी त्वचा पर इसे लगा रहे हैं, तो आपकी त्वचा में जलन हो सकती है। ऐसे मामलों में, इसे तुरंत उपयोग करने से बचें। इससे ज्यादातर संवेदनशील त्वचा वाले लोग प्रभावित होते है।

उपरोक्त सभी दुष्प्रभावों को देखते हुए, आपको पता चल गया होगा की Fenugreek के Side Effects अधिकतर हानिरहित हैं और केवल इसके अधिक उपभोग का नतीजा है। इसलिए सलाह है कि अपने सेवन की निगरानी करें और यदि आप मेथी की खुराक का उपयोग कर रहे हैं तो अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर करें!  Benefits & Side Effects of Fenugreek in Hindi

For the latest food news, health tips and recipes, like us on Facebook or follow us on Twitter.

2 COMMENTS

  1. hello mam, meri mummy ke jodo me dard rahta hai. kya joint pain me methi kha sakte hai. ya methi ki chay pee sakte hai. please mujhe methi khane ka trika bataye kaise aur kab lena hey.

    • fenugreek for joint pain : – Many people experience knee pain during winters, for them, methi (fenugreek seeds) can be soaked overnight and consumed to relieve pain. – Ginger has anti-inflammatory properties; hence topical application of ginger oil as well as drinking ginger tea regularly can also help

LEAVE A REPLY