विषय - सूची

ग्रीन टी हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत फायदेमंद है. और ग्रीन टी आजकल बहुत तेजी से लोकप्रिय हो रही है. ग्रीन टी को कैमिला साइनेंसिस की पत्तियों को सुखाकर बनाया जाता है. तो आइए आज हम जानते हैं कि ग्रीन टी (हरी चाय) के क्या-क्या फायदे हैं और इसके क्या-क्या नुकसान हैं. इसे कितनी मात्रा में पीना चाहिए, इत्यादि.ग्रीन टी (हरी चाय) के फायदे : Mewa ki Kheer Recipe मेवे की खीर

ग्रीन टी कब पीनी चाहिए पीने का सही तरीका और सही समयग्रीन टी कब पीनी चाहिए पीने का सही तरीका और सही समय

  1. ग्रीन टी सुबह-सुबह खाली पेट नहीं पीना चाहिए.
  2. ग्रीन टी के साथ दवा न लें, दवा पानी के साथ हीं लें.
  3. ग्रीन टी हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है.
  4. ग्रीन टी कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकती है. ग्रीन टी नियमित पीने से मूत्राशय के कैंसर की आशंका नहीं के बराबर रह जाती है.
  5. ग्रीन टी ब्लडप्रेशर को नियन्त्रण में रखता है.
  6. इसे पीने से दिल का दौरा पड़ने की सम्भावना कम हो जाती है.
  7. हार्ड ग्रीन टी नहीं पीनी चाहिए, इससे पेट की समस्याएँ हो सकती है, नींद आने में समस्या हो सकती है, चक्‍कर आने जैसी समस्‍या पैदा हो सकती है.

ग्रीन टी वजन कम करने में मदद करती है

  • यह फालतू कैलोरी बर्न करने में मदद करती है.
  • अगर आप हर दिन दो-तीन कप से ज्‍यादा ग्रीन टी पियेंगे तो यह आपको नुकसान पहुंचाएगी.
  • दांत के रोग फैलाने वाले बैक्टीरिया को ग्रीन टी खत्म कर देती है.
  • यह मुंह में बदबू पैदा करने वाली बैक्टीरिया के विकास को कम कर देती है.
  • हमेशा ताजी ग्रीन टी पियें.
  • ग्रीन टी ब्‍लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद करता है.
  • ग्रीन टी में पाया जानेवाला अमीनो एसिड चिंता दूर करने में मदद करता है.
  • ग्रीन टी में हाई फ्लोराइड नाम का chemical पाया जाता है.
  • यह हड्डियों को मजबूत रखने में मदद करता है. यह बोन डेंसिटी बनाए रखने में मदद करता है.
  • ग्रीन टी फ़ूड पोइसोनिंग से बचाता है.
  • ग्रीन टी एंटी एजिंग दवा का काम करता है.

क्योंकि ग्रीन टी खुली और टि बैग के रूप में मिलती है। इसलिए ग्रीन टी बनाने के दो तरीके है। यहाँ आपको दोनों विधि बताई जा रही है।खुली हरी पत्ती बाली ग्रीन टी बनाने की विधि 

खुली हरी पत्ती बाली ग्रीन टी बनाने की विधि

  • ग्रीन टी की पत्तियां – आधा छोटा चम्मच
  • इलायची पाउडर – एक चुटकी (स्वाद के लिए)
  • शहद या शक्कर – स्वादानुसार (मिठास के लिए)

ग्रीन टी कैसे बनाये – How To Make Tea Recipe In Hindi

एक बर्तन में २ कप पानी डालकर चूल्हे पर रखे। गैस को ऑन कर दे। जब पानी उबलने लगे तब उसमे आधा चम्मच ग्रीन टी की पत्तिया, इलायची, मिठास के लिए शहद या चीनी डाल कर। लगभग २ मिनट उबाले। जब एक कप पानी बचे तब उसे छन्नी से छानकर गर्म गर्म पिए।

टी बैग से ग्रीन टी कैसे बनाये

यदि आप ग्रीन टी बैग इस्तेमाल कर रहे हैं। तो एक कप गरम पानी में ग्रीन टी बैग को डालकर इसमें इलायची पाउडर डालकर अच्छे से मिक्स कीजिए। आप चाहें तो इसमें चीनी या शहद स्वादानुसार डालकर मिला सकते हैं।

ग्रीन टी पीने का सही समय क्या है

अच्छे परिणामों के लिए खाना खाने के आधा घंटा पहले या खाना खाने के 1-2 घंटे बाद ग्रीन टी पीयें।

ग्रीन टी पीने के फायदे

सेहत कि लिहाज से ग्रीन टी को बहुत फायदेमंद माना जाता है, लेकिन अगर इसे सही तरीके से पिया जाये तो। नहीं तो यह हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए नुकसानदेह हो सकती है। दरअसल ग्रीन टी को वजन घटाने में मददगार माना जाता है, इसके कारण ही लोग इस गलतफहमी का शिकार हो जाते हैं कि अधिक ग्रीन टी पीने का अर्थ है जल्द वजन कम हो जायेगा और वे अधिक मात्रा में ग्रीन टी लेते हैं। लेकिन यह अवधारणा पूरी तरह से सही नहीं है। ग्रीन टी सेहत के लिए तभी फायदेमंद होगी जब आप इसे सही तरीके से लेंगे।

  1. ग्रीन टी पीने से माउथ कैंसर और पेट का कैंसर होने से बचाता है
  2. ग्रीन टी में एंटी एजिंग खूबी होती है जिसकी मदद से आप जल्दी बूढ़े नहीं दिखाई देते हैं और आपकी त्वचा की रंगत बरकरार रहती है
  3. इंसुलिन के इंजेक्शन से होने वाले साइड इफेक्ट को ग्रीन टी कम कर देता है जो कि हाई ब्लड लेवल वाले लोगों के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है
  4. रात को सोने से पहले आप एक कप ग्रीन चाय पी लीजिए इससे आपके शरीर में चर्बी की मात्रा नहीं पड़ेगी और आपके शरीर बिल्कुल शेप में आ जाएगा
  5. आप दिन में 3 बार ग्रीन टी पिया करें इससे आपका शरीर हमेशा एक्टिव रहेगा और आपको थकान और कमजोरी की शिकायत बिल्कुल भी नहीं है
  6. दांतों के मसूड़ों को मजबूत करता है और दांतों से खून निकलना या मसूड़ों में सूजन होना या उनसे खून निकलने वाली शिकायतों को दूर कर देता है

ग्रीन टी के नुकसान Green Tea Side Effect

1. शायद आपको पता न हो लेकिन ग्रीन टी में भी कैफीन होता है। ग्रीन टी में मौजूद कैफीन से भी कई हेल्थ प्रॉब्लम्स होने लगती हैं। ग्रीन टी की 227 ग्राम चाय में 24 से 45 मिलीग्राम तक कैफीन होती है। बाकी चाय की ही तरह अगर आप ग्रीन टी का ज्यादा सेवन करते हैं तो कैफीन आपकी हार्टबीट अनियमित कर देती है। इससे आपको नर्वसनेस का अनुभव होता है और आप छोटी-छोटी सी बातों पर चिढ़ने लगते हैं।

2. ज्यादा ग्रीन टी पीना आपके पाचन तंत्र के लिए भी नुकसानदेह साबित हो सकता है। ज्यादा कैफीन आपके पाचन रस के बैलेंस को बिगाड़ देता है जिससे आपका पेट भी ख़राब हो सकता है। ग्रीन टी में मौजूद टैनिन आपके पेट को खराब कर सकता है क्योंकि ग्रीन टी पीने से पेट में एसिड अधिक बनने लगता है। जिन लोगों को पेट की समस्या रहती है खासतौर पर एसिडिटी होती है उन्हें ग्रीन टी पीने से बचना चाहिए।

3. गर्भवती महिलाओं को दिन में दो बार से ज्यादा ग्रीन टी पीने के लिए मना किया जाता है। इसके पीछे भी कारण कैफीन ही है। कैफीन का सेवन मां और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक माना जाता है।

4. अगर आपको ऑस्टियोपोरोसिस की शिकायत है या फिर हड्डियों से जुड़ी कोई भी बीमारी है तो भी ग्रीन टी आपके लिए नुकसानदायक साबित हो सकती है।

अन्य पढ़े

1 COMMENT

LEAVE A REPLY