Amarbel-Plant-Ke-Fayde,अमर बेल के फायदे
अमर बेल, Amarbel-Plant

अमरबेल एक बेल(लता) है ये पूरे भारत वर्ष में पायी जाती है। भारत के अलग अलग राज्यों में अलग अलग नामो से इसे जाना जाता है, जैसे आकाश बेल, डोडर, स्वर्ण लता, अँधा बेल, आलोक लता,अमरबल्लरी और तेगा आदि नामों से जानी जाती है। ये लता यानि बेल रूपी वनस्पति है। इस वनस्पति में कोई मूल यानी जड़ नहीं होती, क्यूंकि यह जमीन पर नहीं उगती है। यह दूसरे पेड़ पौधों पर फलती फूलती है। और उन्ही से अपना आहार उनके रस को चूस कर लेती है। जिस पेड़ पर यह उगती है उसको सुखाने में कोई कमी नहीं छोड़ती है। यह हरे या पीले रंग की होती है। इसमें पत्ते तो होते है लेकिन वो बहुत ही बारीक़ यानी छोटे होते है, जो सामान्य आँखों से जल्दी नज़र नहीं आते है। इस बेल में फूल भी लगते है। ये बहुत से बीमारियों में औषधीय लाभदायक है।

Amarbel-Plant-Ke-Fayde,अमर बेल के फायदे
अमर बेल, Amarbel-Plant

अमरबेल फायदे, गुण, लाभ – Amarbel fayde

अमरबेल के फूल गुच्छो में सफ़ेद रंग में होते है जो ठंडी के मौसम में लगते है। अमरबेल के बीज बहुत ही छोटे होते है। ये ऐसी लता है जो जिस पेड़ पर फैलती है। उससे अपना भोजन ग्रहण करती है। आकाश बेल जनवरी से जून महीने तक बढ़ती है, और नवम्बर महीने में सूख जाती है। विकी 

आकाश बेल रंग में पीला होता है। इसका स्वाद कड़वा होता है। इसके सभी भागो को हम दवाओं के लिए उपयोग कर सकते है।

किन बीमारियों में अमरबेल लाभदायक

अमरबेल खासकर आँखों के लिए बहुत लाभदायक होते है, जैसे आँखों में जलन,पीलापन…

  1. गंजापन होने या बाल झड़ने पर आकाश बेल को पीस कर तिल तेल में मिलाकर बालो में लागाने से टूटे हुए बाल उगते है, और बाल झड़ना बंद हो जाता होता है। प्रतिदिन आकाश बेल को पीसकर बालो को धोने से जल्दी लाभ मिलता है।
  2. आकाश बेल को पीसकर चोट पर लागाने से घाव जल्दी भरते है, सूजन कम होती है, और ये दर्द निवारक का कार्य भी करता है।
  3. बादी या खूनी बवासीर होने पर अमरबल्लरी का रस, जीरा पाउडर को पानी में घोलकर सुबह शाम पीने से लाभ मिलता है।
  4. बच्चो के रुके हुए कद बढ़ाने में अमरबेल बहुत असरदार होता है। इसके रस को दूध में मिलाकर पीने से लाभ होता है।

नोट :- अमरबेल गर्म होने के कारण गर्भवस्था में ये नुक्सान दायक होता है।

LEAVE A REPLY