सावधान प्लास्टिक मानी के इस्तेमाल से Careful use of treated plastic

आज डिजिटल आधारित संर्पक विहीन भुगतान प्रणाली हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन गई है। ज्यादातर लोग कैश रखने के बजाए कार्ड से पेमेंट करना ज्यादा पसंद करते हैं। इंटेरनेट के जरिए घर बैठे-बैठे ही सारे भुगतान कर दिये जाते हैं। प्लास्टिक मनी यानी सभी प्रकार के बैंक कार्ड, डेबिट, क्रडिट कार्ड इत्यादि के करण कैशलेश पेमेंट की सुविधा हो गई। लेकिन जहां सुविध होती है वहां जिम्मेदारी भी बढ जाती है। यदि आप सर्तक रहते हैं तो सुविधाओं का लाभ उठाते हुए सुरक्षित बैंकिंग कर सकते है।

उपयोग में रखें विशेष ध्यान

प्लास्टिक मनी का इस्तेमाल करते समय कुछ नियमों का पालन करना भी जरूरी है। अपना गोपनीय विवरण जैसे कार्ड नम्बर, एक्सपायरी डेट, सीवीवी नम्बर, ग्रिड वैल्यू, अपनी अपनी जन्मतिथि, एटीएम पिन, थ्रीडी सिक्योर पिन या वन टाइम पासवर्ड से फोन काॅल या ईमेल पर साझा नहीं करें।

याद रहें बैंक आपसे कभी भी उपरोक्त जानकारी के बारे में नहीं पुछेगा। यदि आपको ऐसी फोन काॅल मिलती है तो तत्काल इस नम्बर की जानकारी तथा व्यक्ति के बारे में सारी जानकारी बैंक को देनी चाहिये। एटीएम पिन रनहेया कार्ड से संबंधित कोई भी सूचना कार्ड के एनवलप, डायरी या मोबइल फोन में नहीं लिखें।

यह भी सुनिश्चित कर लें कि आपको हर छठे महीने अपने कार्ड का पिन नम्बर बदल लेना चाहिए।

बैंक को दें नवीनतम जानकारी

अपने बैंक को अपना नवीनतम संपर्क विवरण देते रहें। इससे आपके खाते की गतिविधियों को अपडेट करने में आसानी रहेगी। इस प्रकार अपने कार्ड का पैटार्न का भी त्वरित विश्लेषण करें। आपके बैंक को आपके लेन-देन की सीमा आपकी जरूरत के अनुसार निर्धारित करने में मददगार होगा।

स्टेटमेंट पर रखें निगाह

अपने खाते नियमित रूप् से असेस करते रहें तथा बैंक खाते/क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट पर भी निगरानी रखें। यदि इसमें आपको किसी प्रकार का अनाधिकृत लेनदेन दिखाई देता है। तत्काल इसकी सूचना आपने बैंक को दीजिए और चार्जबैक उठाइए। चार्जबैक एक प्रक्रिया है, जिसके मध्यम से आप अपने बैंक/दुकाानदार से लेनदेन के विवाद को हल कर सकती हैं।

चिप कार्ड को दें प्राथमिकता

प्लास्टिक कार्ड से लेनदेन को और भी सुरक्षित बनाने के लिए अधिकतर बैंक ईएमवी कार्ड की ओर अग्रसर है। यह चिप कार्ड पूण रूप से और अधिक सुरक्षित है, क्योंकि किसी स्टोर में प्रत्येक बार कार्ड का उपयोग करने से एक अनूठा वन टाइम कोड जनरेट होता है। यह आपको अपने कार्ड पर सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत प्रदान करता है। इस सुविधा से कोई आपके कार्ड का नकली कार्ड नहीं बना सकेगा।

खुद डालें अपना पिन

आप यदि किसी दुकानदार के यहां अपना कार्ड स्वैप करवां रहें है तो अपना एटीएम पिन, स्टोर मालिक या रिटेलर से लेनदेन के समय कदापि साझा न करें।

अपना पिन नम्बर स्वयं एंटर करें और वह भी इस तरीके से कि इसे कोई दूसरा न देख सके। दुकान पर लेनदेन के समय यह सुनिश्चित कर लें, कि कार्ड पर आपकी सतत नजर बनी रहें ताकि किसी को कार्ड के विवरण की नकल करने का अवसर नहीं मिल सके। यह भी तय कर लें कि आपकी चार्ज स्लिप के खाली स्थान पर आप को लाइन खींचनी है ताकि दुकानदार कोई अतिरिक्त प्रभार उसमें नहीं जोड सकं। याद रहे, यह स्थान टिप के लिए रिक्त रखा जाता है, और ऐसी स्थिति में जब आप टिप नहीं देना चाहते इस खाली जगह पर लाइन खींच दीजिए।

सही मर्चेंट से करें शॉपिंग

जहां तक आॅनलाइन/ई-काॅमर्स का सवाल है, बच्छी तरह का एन्टीवयरस साॅफ्टवेयर आपके भुगतानों को लबें समय तक सुरक्षित रख सकता है। हमेशा किसी प्रतिष्ठित और जानकार आॅनलाइन मर्चेंट से ही लेनदेन करें। अपने पासवर्ड को जितना सुदृढ बना सकते है बनाए तथा जन्म तिथि, पिन कोड इत्यादि को अपने थ्रीडी सिक्योर पिन के लिए इस्तेमाल नहीं करें।
आर्कशक या प्रलोभनकारी ईमेल्स, विदेशी लाॅटरी के प्रलोभान या आरबीआई के नाम से प्राप्त होने वाली ईमेल्स के चक्कर में न पडें।

विदेश में एक ही कार्ड का करें उपयोग

विदेश यात्रा के समय, एक कार्ड ही चुनें, जिससे आपको लेनदेन करना है। अन्य कार्ड पर लेनदेन की सीमा को कम कर दें, ताकि आप किसी भी प्रकार की धोखाधडी से बचे रहें। अपने अपडेट संपर्क विवरण को बैंक के साथ साझा करते रहें, ताकि बैंक आपको उसी संपर्क पर अलर्ट्स भेजता रहे।

loading...
Loading...

LEAVE A REPLY